दत्तात्रेय होसबोले संघ के अगले सर कार्यवाह के प्रबल दावेदार

भोपाल। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सर कार्यवाह भैयाजी जोशी का उत्तराधिकारी कौन होगा, इसका फैसला संघ की मार्च 2018 में होने वाली प्रतिनिधि सभा की बैठक में चुनाव से होगा। यह बैठक नागपुर में होगी। जोशी का तीसरा कार्यकाल मार्च में पूरा हो रहा है। भोपाल में गुरुवार से हो रही अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में नए सर कार्यवाह के चुनाव के प्रस्ताव पर विचार होगा।

तीन साल का होता है कार्यकाल

आरएसएस में सर संघचालक के बाद सर्वाधिक ताकतवर पद सर कार्यवाह का होता है। जिसका कार्यकाल तीन साल का होता है। संघ के मौजूदा सर कार्यवाह भैयाजी जोशी मार्च 2018 में अपना तीसरा कार्यकाल पूरा कर रहे हैं। इसलिए अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल में इस बात पर विचार किया जाएगा कि नए सर कार्यवाह का चुनाव संघ की प्रतिनिधि संभा की बैठक में किया जाए।

प्रतिनिधि सभा चुनती है सर कार्यवाह

आरएसएस में सबसे ताकतवर संस्था प्रतिनिधि सभा होती है। जिसके पास सभी तरह के निर्णय लने का अधिकार है। संघ सूत्रों के मुताबिक सरकार्यवाह का चुनाव प्रतिनिधि सभा के 40 से 45 सदस्यों के द्वारा किया जाता है। अब तक संघ में कभी भी निर्वाचन की नौबत नहीं आई है। आमतौर पर सर्वसम्मति से ही सर कार्यवाह का मनोनयन होता है। इस बार भी संभावना है कि भैयाजी जोशी को चौथा कार्यकाल देने अथवा नए व्यक्ति को मौका देने का फैसला भी सर्वसम्मति से ही होगा।

होसबोले हैं दावेदार

माना जा रहा है कि यदि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल में नए सर कार्यवाह के प्रस्ताव पर चर्चा होती है तो आरएसएस के सह सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले को इस पद के लिए सबसे मजबूत दावेदार माना जा रहा है। होसबोले के अलावा सह सरकार्यवाह में सुरेश सोनी ,डॉ. कृष्णगोपाल और वी. भागैय्या हैं। सोनी दो साल के स्वास्थ्य अवकाश के बाद कुछ समय पहले ही मुख्य धारा में लौटे हैं।

Related posts

Leave a Comment