किसान आंदोलन: राजनीति सियासत तेज: अब नेताओं के दौरे,पुलिस प्रशासन की कडी निगाह

http://rajdhaninews.co.in/kisan-movement-politics-political-progress-now-the-leaders-visit-closely-watching-the-police-administration/

मंदसौर। किसान आंदोलन वैसे पूरे देशभर में चल रहा है लेकिन सबसे पहले चिंगारी मंदसौर जिले में भडकी और छह किसानों की मौत हो गई। मात्र दो दिन के दौरान माहौल ने उग्र रूप ले लिया था और चिंगारी जगह—जगह उठने लगी। सरकार टेंशन में आ गई। किसान उग्र रूप लेते नजर आए। मंदसौर के पिपलियामंडी  में किसान आंदोलन के दौरान जो घटनाक्रम हुआ। चंद मिनिटों में इतना बडा कांड कैसे हो गया और क्यों हुआ। इसकी जांच अलग से चल रही है। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने उपवास शुरू किया और किसानों के प्रतिनिधि ने उपवास शुरू करवाया। किसान आंदोलन के बीच अब राजनीति गरमा गई है। राजनीति सियासत तेज हो गई है। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने भाजपा सरकार को घेरना शुरू कर दिया। आरोप—प्रत्यारोप का दौर जारी है। कांग्रेस के बडे नेता मंदसौर में आने के लिए कार्यक्रम तय कर रहे है। मंगलवार को  कांग्रेस के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का मंदसौर कार्यक्रम तय  रखा गया लेकिन मंदसौर में सिंधिया और कांतिलाल भूरिया को नहीं आने दिया। इधर किसान नेता हार्दिक पटेल उदयपुर से नीमच होते हुए मंदसौर जाने वाले थे लेकिन नयागांव बार्ड पर ही उन्हें रोक दिया गया और पुलिस उन्हें उदयपुर तक छोडकर आई।
———
15 साल से सत्ता से दूर कांग्रेस को मिला बडा मुददा— मध्यप्रदेश में सत्ता से दूर कांग्रेस को सालों हो गए है। कांग्रेस को मिशन 2018 में दमदारी से खडे रहने का मौका मिल गया है। प्रदेश में किसान आंदोलन अब स्थिर है बस अब कांग्रेस  ने मोर्चा खोल दिया है। पुलिस प्रशासन की पैनी निगाह है। कांग्रेस के बडे—बडे नेता इस मुददे को भुनाना चाह रहे है वहीं शिवराज सरकार किसानों की मांगों पर विचार कर रही है।
—मुख्यमंत्री ने विधायकों को भोपाल बुलाया और सरकार के खिलाफ पनपा असंतोष को कम करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं संगठन भी इस दिशा में काम करेगा। विधायक दलों की आपात बैठक बुलाई गई है।
————
और इधर जीएसटी के विरोध में 16 से भारत बंद का आव्हान
नई दिल्ली। एक तरफ किसान आंदोलन अभी समाप्त ही नहीं हुआ वहीं दूसरी और व्यापारियों ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। जीएसटी प्रणाली के विरोध में व्यापारी संगठनों ने 16 जून से बांद बंद का आव्हान किया है।

Related posts

Leave a Comment