टीकमगढ़ किसान आंदोलन के कुछ और पीड़ितों के बयान लेंगे जांच अधिकारी

भोपाल। टीकमगढ़ के ‘खेत बचाओ किसान बचाओ’ आंदोलनकारियों पर लाठीचार्ज और आंदोलन से लौट रहे किसानों के कपड़े उतारकर पिटाई करने के मामले की जांच अभी पूरी नहीं हुई। जांच अधिकारी छतरपुर डीआईजी केसी जैन अभी कुछ और पीड़ित किसानों के बयान ले रहे हैं। हालांकि जांच की प्रारंभिक रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय को दे दी गई है। दूसरी तरफ कांग्रेस राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग में यह मामला ले जा रही है।

टीकमगढ़ के किसानों ने तीन अक्टूबर को आंदोलन किया था, जिसमें लाठीचार्ज हुआ था और फिर कथित रूप से वापस लौटने वाले किसानों को पुलिस ने रास्ते में गाड़ी से उतारकर थाने में बैठाया था। थाने में उनके कपड़े उतारकर पीटा गया।

दूसरे दिन गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने छतरपुर डीआईजी जैन को सागर आईजी सतीश सक्सेना के मार्गदर्शन में जांच करने का जिम्मा दिया था। जैन ने नवदुनिया से बातचीत में कहा है कि वे पीड़ितों के बयान लेने टीकमगढ़ गए थे, कुछ और पीड़ितों के बयान लेना बाकी हैं।

इस संबंध में डीजीपी ऋषि शुक्ला ने कहा कि पूरी रिपोर्ट आने के बाद उसके मुताबिक कार्रवाई की जाएगी। दूसरी तरफ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने बताया कि वे टीकमगढ़ किसान आंदोलन की घटना की शिकायत करने शुक्रवार को राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग में जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि वे आंदोलनकारी पीड़ित किसानों को भी साथ लेकर जा रहे हैं। आयोग से घटना की जांच कराने की मांग करेंगे।

Related posts

Leave a Comment