RSS का राहुल गांधी के बयान पर पलटवार, कहा शाखा नहीं महिला हॉकी मैच देखें

भोपाल.संघ की शाखाओं से महिलाओं को क्यों दूर रखा जाता है? कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के इस सवाल पर आरएसएस ने पलटवार किया है। बुधवार को मीडिया से बातचीत के दौरान संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य ने कहा कि राहुल का यह पूछना ऐसा ही है, जैसा पुरुष हॉकी मैच में महिलाओं को देखना। साफ है कि खुद उनकी व उनका भाषण लिखने वालों की दिमागी क्षमता कम है। वे सही स्क्रिप्ट नहीं लिख पा रहे। राहुल को शॉर्ट्स (छोटे कपड़े) में महिलाओं को देखना है तो वे महिला हॉकी मैच देखें। तीन तलाक के सवाल पर वैद्य ने कहा कि यह मुस्लिम महिलाओं के बीच का मामला है। इसकी चिंता उन्हें ही करनी चाहिए।
वैद्य कहा कि राहुल को संघ की चिंता करने के बजाए कांग्रेस की चिंता करनी चाहिए। महिलाओं की भी चिंता है तो पार्टी स्तर पर करें। उनकी दादी (इंदिरा गांधी) व पिता (राजीव गांधी) जब पावरफुल थे तब खूब विरोध किया, लेकिन संघ को बढ़ने से नहीं रोक पाए।
– संघ अभी भी बढ़ रहा है। 50 हजार शाखाएं लग रही हैं। फील्ड में हमारा कोई काम्पिटीटर (मुकाबला करने वाला) नहीं है। संघ सरकार की कृपा से नहीं, स्वयंसेवकों से चल रहा है, जबकि कांग्रेस का जनाधार घट रहा है।
भैया जी जोशी की जगह ले सकते हैं सोनी या होसबोले
– आरएसएस में संघ प्रमुख मोहन भागवत के बाद एक सरकार्यवाह और चार सह सरकार्यवाह के अहम पद होते हैं। इनका कार्यकाल तीन वर्ष का होता है।
– वर्ष 2015 में मार्च में हुई प्रतिनिधि सभा में इलेक्शन के बाद इनकी ऐलान हुआ था। तब सरकार्यवाह सुरेश भैयाजी जोशी और चार सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले, सुरेश सोनी, कृष्णगोपाल और वि भागय्या चुने गए। इनका कार्यकाल मार्च 2018 में पूरा हो रहा है।
– बताया जा रहा है कि जोशी की जगह होसबोले या सोनी ले सकते हैं। यह संघ प्रमुख के बाद दूसरा बड़ा पद है।
– इधर, अभा प्रचार प्रमुख वैद्य से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कार्यकारी मंडल की बैठक में सह सरकार्यवाह के तीन साल के कार्यकाल का ब्यौरा पेश होगा।
– इसी आधार पर मार्च 2018 में नागपुर में होने वाली प्रतिनिधि सभा में इलेक्शन होंगे।

Related posts

Leave a Comment